Skip to content

Parmeshvar Ka Maarg Ya Mera Maarg “परमेश्वर का मार्ग या मेरा मार्ग”

(Audio Link) https://youtu.be/E7GamaVw0gs

(Jeremiah 29:11)  “क्योंकि यहोवा की यह वाणी है, कि जो कल्पनाएं मैं तुम्हारे विषय करता हूँ उन्हें मैं जानता हूँ, वे हानी की नहीं, वरन कुशल ही की हैं, और अन्त में तुम्हारी आशा पूरी करूंगा।

(Isaiah 55:8-9)  “ क्योंकि यहोवा कहता है, मेरे विचार और तुम्हारे विचार एक समान नहीं है, तुम्हारी गति और मेरी गति एक सी है।
क्योंकि मेरी और तुम्हारी गति में और मेरे और तुम्हारे सोच विचारों में, आकाश और पृथ्वी का अन्तर है॥ 

(2 Corinthians 6:14)  “और परमेश्वर ने अपनी सामर्थ से प्रभु को जिलाया, और हमें भी जिलाएगा।” 

 

यदि हम वास्तव में अपनी योजनाओं की तुलना में अपने जीवन के लिए परमेश्वर की योजनाओं के लाभों को देख सकें, तो हम जीवन में उनकी इच्छा के विरुद्ध कभी भी एक कदम नहीं उठाएंगे। हालाँकि, यह हमेशा संभव नहीं होता है, क्योंकि जब परमेश्वर हमारे लिए अपनी योजनाओं को प्रकट करते हैं, तब भी हमें संदेह होता है कि क्या यह वास्तव में प्रभु हमसे बात कर रहे हैं। ध्यान रखें कि केवल ईश्वर ही है जो  हमारे जीवन की पूरी तस्वीर देख सकता है और यह भी देख सकता है कि हमारे जीवन में जो निर्णय हम लेते है वे  कितने लाभदायक या विनाशकारी हो सकते हैं। हमें हमेशा उसकी इच्छा के प्रति समर्पण करना और उसके निर्देशों के लाभों का आनंद लेना सीखना चाहिए ।

 

अधिकांश लोगों के विश्वास करते है की, भले ही हमने अपना काम अपने ही हिसाब से करना चुना, तौभी परमेश्वर हमें आशीर्वाद देंगे, लेकिन यह बात ना कोई आसान यात्रा के सामान है, नाही छोटी यात्रा  है, और जो परिणाम उसने चाहा वह भी नहीं होगा।  कुछ लोग इसे उसकी अनुमति इच्छा कहते हैं। उदाहरण के लिए, विवाह तब तक पाप नहीं है जब तक वह एक पुरुष और एक महिला के बीच हो। हालाँकि, कई मसीही लोग इस तरह भी सोचते है की  यदि आप यीशु के शिष्य हैं, तो आपको किसी अविश्वासी  से शादी करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करके  आपपरमेश्वर के साथ आपके चलना लाभदायक बनाते है । लेकिन प्राकृतिक रूप से आपके बीच चीजें समान हो सकती हैं, और आध्यात्मिक रूप से आप अंततः टकराएंगे।

 

निश्चित रूप से, आपको सुन्दर बच्चे हो सकते , अच्छी पत्नी हो सकती है , अच्छी नौकरी हो सकती है।  लेकिन आप पवित्र आत्मा के तहत एकता के साधनों तक पहुंच के बिना दुनिया के अधिकांश अविश्वासियों की तरह जी रहे होंगे।  अब्राहम के पहले बच्चे, इश्माएल की तरह, जिसे परमेश्वर ने उसे पहिलौटा नहीं कहा, लेकिन इसहाक को अब्राहम का एकमात्र पुत्र कहा, क्योंकि इश्माएल का जन्म परमेश्वर की प्रारंभिक योजना से नहीं हुआ था। परमेश्वर अपनी सेवा की लिए इन अंत के दिनों में उसके इच्छा के अनुसार नए जन्म पाए हुओं को, अपने समय में अपनी आत्मा के द्वारा  इस्तेमाल करता है।

 

दुर्भाग्य से, जब उद्धार की बात आती है, तो यह या तो परमेश्वर का मार्ग है या राजमार्ग। – बॉब गैस

 

आइए हम प्रार्थना करें:

  • पिता, आप वह आत्मा हैं जो हमारी कमज़ोरी में मदद करती है, सलाह की आत्मा और भविष्यवाणी की आत्मा है।
  • हमारे लिए एक आदर्श योजना बनाने और केवल वही चाहने के लिए जो हमारे लिए सबसे अच्छा हो धन्यवाद।
  • हम अपनी स्वार्थी और बुरी इच्छाओं के कारण चीजों को अपने तरीके से करने की इच्छा के लिए आपके प्रति जी विद्रोह किया था अपना विद्रोह स्वीकार करते हैं।
  • आपकी इच्छा के विरुद्धजो हमारे जीवन में महत्वपूर्ण विकल्प चुनने के लिए हमें क्षमा करें।
  • हमें दुनिया की उस मानसिकता से सुरक्षित रखें जो आपकी सलाह के बिना समृद्ध होना और जीना चाहती है।
  • हमारे जीवन में हर भी चीज़ को सही करने और बदलने में हमारी सहायता करें जो हमें उन महान चीजों की पूर्णता से जीने से रोकती है जो आपने हमारे लिए योजना बनाई हैं।
  • यदि हमने गलत चुनाव किए हैं जो वर्तमान में हमारे जीवन को प्रभावित कर रहे हैं, तो हम दया की प्रार्थना करते हैं और आप अभी भी उन चीजों को हमारे लिए बदल देंगे और हम जो कर रहे हैं उसे आशीर्वाद देंगे और समृद्ध करेंगे।
  • हमें अपनी मूल योजना पर वापस आने के लिए हमारी सहायता करें।
  • हम यीशु के शक्तिशाली नाम में प्रार्थना करते हैं। 
  • । आमीन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *